Connect with us

ad

Jashpur

*आदिवासी समाज की आस्था का केंद्र करमा वृक्षों की कटाई एक सुनियोजित साजिश है …..गणेश राम भगत।*

Published

on

IMG 20240620 WA0010

जशपुरनगर। दुलदुला ब्लॉक के धूरी अंबा , सिमड़ा क्षेत्र में हजारों करम वृक्षों को काटने की घटना को लेकर पूर्व मंत्री गणेशाराम भगत में दिया बड़ा बयान कहा कि जिस प्रकार से मिशनरियों के द्वारा आदिवासी समाज का धर्मांतरण करने के लिए उनकी आस्था के केंद्र सरना स्थलों को नष्ट किया गया इस तरह से अब जशपुर में आदिवासियों की आस्था के प्रमुख वृक्ष करमा विहीन करने का षड्यंत्र चल रहा है ताकि आने वाले समय में आदिवासी समाज करमा वृक्ष के महत्व को भूल जाए और करम पूजा की परंपरा को नष्ट किया जा सके। विदित हो कि जशपुर जिले के दुलदुला ब्लॉक के धूरीअंबा, सिमड़ा क्षेत्र में पिछले कुछ दिनों से लगातार करमा के अत्यंत प्राचीन लगभग 200 _300 वर्ष पुराने वृक्षों की कटाई धड्डले से चल रही थी और उन वृक्षों की लकड़ियों को ट्रकों में भर कर लकड़ी तस्करों के द्वारा जिले से बाहर ले जाया जा रहा था जिसको लेकर के क्षेत्र के ग्रामीणों के द्वारा पूर्व मंत्री एवं अखिल भारतीय जनजाति सुरक्षा मंच के राष्ट्रीय संयोजक गणेश राम भगत को इस बात की सूचना दी थी। ग्रामीणों की सूचना मिलने पर श्री भगत मौके पर पहुंचे और मौके से ही वन विभाग एवं राजस्व विभाग से उक्त संबंध में जानकारी चाही गई। जिस पर राजस्व विभाग के द्वारा यह बताया गया कि भूमि स्वामियों के द्वारा अपने निजी भूमि पर प्राकृतिक रूप से उगे पुराने करमा वृक्षों को काटने की अनुमति चाही गई थी और भूमि स्वामीके आवेदन पर पेड़ काटने की अनुमति दी गई है। राजस्व विभाग के उस बयान की जब पड़ताल की गई तो कई ऐसे सवाल उठे जिसका उत्तर ना तो राजस्व विभाग के पास था और ना ही वन विभाग के पास श्री भगत ने जांच के दौरान जिस भूमि स्वामी को सात करमा के पेड़ काटने की अनुमति एसडीएम कुनकुरी के द्वारा दी गई थी उक्त संबंध में जब भूमि स्वामी महिपाल राम से पूछताछ की गई तो महिपाल राम के द्वारा बताया गया कि वह एसडीएम कार्यालय कभी पेड़ काटने की अनुमति लेने गया ही नहीं है।महिपाल राम ने यह भी बताया कि जिस जमीन पर करमा के 200__ 300 साल पुराने वृक्ष हो गए हैं वास्तव में वह भूमि उसे 1975 में बंटन में शासन से प्राप्त हुई है और उक्त भूमि पर उसके द्वारा कभी भी कोई पेड़ नहीं लगाया गया सवाल यह उठता है की शासन से बंटन में प्राप्तभूमि पर यदि पट्टा प्राप्त करने के पूर्व से ही प्राकृतिक रूप से वृक्ष लगे थे तो ऐसे वृक्षों को काटने की अनुमति किस आधार पर दी गई सवाल यह भी है कि जब महिपाल राम एसडीएम कार्यालय पेड़ काटने की अनुमति लेने गया ही नहीं तो आखिर किसके द्वारा उक्त अनुमति का आवेदन लगाया गया और किस आधार पर एसडीएम के द्वारा पेड़ काटने की अनुमति दी गई ? महिपाल राम ने ने बताया कि जावेद नाम का व्यक्ति उसकी लकड़ी खरीदा है और उसी के द्वारा एसडीम के पास पेड़ काटने की अनुमति का आवेदन लगाया गया था विदित हो कि जावेद के द्वारा महिपाल राम के जमीन पर लगभग 200 _300 साल के पुराने वृक्ष को काटने की एवज में सात पेड़ों के एवज में ₹7000 मात्र दिए हैं जबकि उन सात पेड़ों को काटने के पश्चात लगभग तीन ट्रक लकड़ी जावेद के द्वारा ले जाया जा चुका है और दो-तीन ट्रक लकड़ी अभी भी मौके पर पड़ी हुई है । श्री भगत की शिकायत पर राजस्व विभाग के तहसीलदार के द्वारा लकड़ी को जप्त करने की कार्रवाई की गई और वन विभाग को उक्त जप्त सुदा लकड़ी कष्टगार गम्हरिया में रखने हेतु सुपुर्द किया गया किंतु कष्टगार गम्हरिया में सिर्फ एक ट्रक लकड़ी ही पहुंच पाया और जप्त सुदा लकड़ी को मौके से जावेद के द्वारा क्रेन में लकड़ी ट्रक पर लोड कर लगभग तीन से चार ट्रक लकड़ी चोरी कर ले जाया गया है जिस संबंध में श्री भगत ने तहसीलदार दुलदुला को जावेद एवं उक्त घटना में सनलिप्त अन्य लोगों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करने तथा जप्त सुदा लकड़ी को उठाने एवं ले जाने में प्रयुक्त क्रेन एवं ट्रक को जप्त कर राजशत करने की की मांग मांग की गई है जिस पर तहसीलदार दुलदुल के द्वारा मौके पर पहुंचकर उक्त संबंध में ग्रामीणों की उपस्थिति में पंचनामा तैयार कर जप्त सुदा लकड़ी को काष्ठ गार गम्हरिया भेजने की कार्यवाही की गई विदित हो की इस घटना के अलावा भी दुलदुला क्षेत्र के कई किसानों की भूमि पर प्राकृतिक रूप से उगे हजारों करमा के वृक्षों को जावेद के द्वारा काटकर गिरा दिया गया है मौके पर यह भी दिखाई दिया कि न केवल करमा के वृक्ष बल्कि फलदार जामुन एवं सेमर के भी हजारों वृक्षों को अवैध रूप से कटकर गिरा दिया गया है दुलदुला क्षेत्र में 200 _300 वर्ष पुराने कर्म के वृक्षों को जिस बेदर्दी से काटा गया है उसे देखकर श्री भगत ने कहा कि यह कोई मामूली घटना नहीं है बल्कि सुनियोजित षड्यंत्र के तहत किया जा रहा है श्री भगत ने आरोप लगाया कि हो ना हो इस कार्य में मिशनरी संस्थाएं सनलिप्त हैं उन्होंने कहा कि आज से 100 वर्ष पूर्व जशपुर के प्रत्येक गांव में सरना स्थल हुआ करते थे जिसमें स्थानीय आदिवासियों की आस्था थी किंतु लगातार उनको धर्मांतरित करने की योजना से उनके आस्था के केंद्र सरना स्थलों को काटकर नष्ट कर दिया गया उसी प्रकार आदिवासी समाज की आस्था का प्रमुख केंद्र करमा वृक्ष होता है जिसकी डाली की पूजा आदिवासी समाज भादो एकादशी के दिन करता है और करमा वृक्ष को देव के रूप में पूजता है हो ना हो सरना स्थलों को नष्ट करने की तरह मिसनारियों के द्वारा जानबूझकर करमा के वृक्षों को कटवाया जा रहा है ताकि आदिवासी समाज की आस्था का केंद्र समाप्त हो जाए और उन्हें धीरे-धीरे धर्मांतरित कर ईसाई बनाया जा सके । बहरहाल इस विषय को लेकर आदिवासी समाज के अंदर आक्रोश पनप रहा है और संभावनाएं जताई जा रही है कि इस गंभीर विषय को लेकर अखिल भारतीय जनजाति सुरक्षा मंच कोई बड़ा कदम उठा सकता है उक्त संबंध में जब श्री भगत से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह कोई छोटा विषय नहीं है और इस विषय की जांच के लिए मेरे द्वाराकेंद्र सरकार को पत्र लिखा जा रहा है और यदि जल्द ही दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई नहीं हुई तो अखिल भारतीय जनजाति सुरक्षा मंच सड़क पर उतरकर इस विषय को लेकर आंदोलन करेगा यह हमारे धर्म और आस्था का विषय है।

Advertisement

ad

Ad

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Chhattisgarh3 years ago

*बिग ब्रेकिंग :- युद्धवीर सिंह जूदेव “छोटू बाबा”,का निधन, छत्तीसगढ़ ने फिर खोया एक बाहुबली, दबंग, बेबाक बोलने वाला नेतृत्व, बेंगलुरु में चल रहा था इलाज, समर्थकों को बड़ा सदमा, कम उम्र में कई बड़ी जिम्मेदारियां के निर्वहन के बाद दुखद अंत से राजनीतिक गलियारे में पसरा मातम, जिला पंचायत सदस्य से विधायक, संसदीय सचिव और बहुजन हिन्दू परिषद के अध्यक्ष के बाद दुनिया को कह दिया अलविदा..*

Chhattisgarh3 years ago

*जशपुर जिले के एक छोटे से गांव में रहने वाले शिक्षक के बेटे ने भरी ऊंची उड़ान, CGPSC सिविल सेवा परीक्षा में 24 वां रैंक प्राप्त कर किया जिले को गौरवन्वित, डीएसपी पद पर हुए दोकड़ा के दीपक भगत, गुरुजनों एंव सहपाठियों को दिया सफलता का श्रेय……*

Chhattisgarh3 years ago

*कोरोना को लेकर छत्तीसगढ़ प्रशासन फिर हुआ अलर्ट, दूसरे देशों से छत्तीसगढ़ आने वालों की स्क्रीनिंग और जानकारी जुटाने प्रदेश के तीनों हवाई अड्डों पर हेल्प डेस्क स्थापित करने के निर्देश, स्वास्थ्य विभाग ने परिपत्र जारी कर सभी कलेक्टरों को कोरोना जांच और टीकाकरण में तेजी लाने कहा*

Advertisement