Connect with us


Chhattisgarh

*केउ तो झूलै केउ तो झुलावेये, केव तो चवर डोलावयु ना…,जानिए क्या सामाजिक व मनोवैज्ञानिक महत्व है कजरी का…!*

Published

on

IMG 20230710 WA0044

– विक्रांत पाठक

कई लोक परंपराएं हमारी धरोहर रहीं हैं। इन परंपराओं ने देश को अलग सांस्कृतिक पहचान दी है। सावन में भी कई पंरपराओं का अपना स्थान है। कजरी गाकर झूला झूलना भी इन्ही परंपराओं में से एक है। तेजी से हो रहे सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन ने इन परंपराओं पर काफी प्रभाव डाला है। अब ऐसी परंपराएं या तो अपना स्वरूप बदल चुकी हैं, या फिर पूरी तरह लुप्त हो चुकी हैं। सावन में विवाहिताओं के मायके जाने की भी पंरपरा रही है। मायके में वे अपनी पुरानी सहेलियों के साथ मिलकर खूब अठखेलियां करती थीं। सखियों के संग वे झूला लगाकर कजरी गाती थीं। उनकी यह परंपरा प्रकृति के भी निकट थी। जिसे गीतों के बोल के माध्यम से समझा जा सकता है। ऐसी परंपराओं का सामाजिक के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक महत्व भी है। कजरी लोकगीत मुख्य रूप से विरह का गीत है। पहले इन गीतों के माध्यम से महिलाएं अपने अंदर की पीड़ा को व्यक्त करतीं थीं। वे अपना दु:ख आपस में बांट लेती थीं। जिससे विरह-वियोग का दुष्प्रभाव मस्तिष्क पर स्थाई नहीं होता था। जिससे अवसाद की स्थिति नहीं आती थी। एक साथ समूह में परंपराओं को निभाने से स्वस्थ मस्तिष्क का ही विकास होता है और समूह में एक-दूसरे के प्रति सहयोग की भावना आती है।

*मिर्जापुर से हुई है उत्पत्ति*

कजरी लोकगीत मुख्य रूप से बिहार के भोजपुरी बेल्ट व उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में गाई जाती है। मिर्जापुर और उसके आसपास का क्षेत्र कजरी के लिए अधिक प्रसिद्ध है। कजरी की उत्पत्ति मिर्जापुर से मानी जाती है। कजरी गायन के 22 प्रकार हैं। इन गीतों में विरह का बहुत ही मार्मिक वर्णन मिलता है। कई गीत श्रृंगार रस के भी दिखाई देते हैं। कई गीतों में प्रकृति वर्णन का सुन्दर चित्रण मिलता है।

Advertisement

Ad

ad

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Chhattisgarh2 years ago

*बिग ब्रेकिंग :- युद्धवीर सिंह जूदेव “छोटू बाबा”,का निधन, छत्तीसगढ़ ने फिर खोया एक बाहुबली, दबंग, बेबाक बोलने वाला नेतृत्व, बेंगलुरु में चल रहा था इलाज, समर्थकों को बड़ा सदमा, कम उम्र में कई बड़ी जिम्मेदारियां के निर्वहन के बाद दुखद अंत से राजनीतिक गलियारे में पसरा मातम, जिला पंचायत सदस्य से विधायक, संसदीय सचिव और बहुजन हिन्दू परिषद के अध्यक्ष के बाद दुनिया को कह दिया अलविदा..*

Chhattisgarh2 years ago

*जशपुर जिले के एक छोटे से गांव में रहने वाले शिक्षक के बेटे ने भरी ऊंची उड़ान, CGPSC सिविल सेवा परीक्षा में 24 वां रैंक प्राप्त कर किया जिले को गौरवन्वित, डीएसपी पद पर हुए दोकड़ा के दीपक भगत, गुरुजनों एंव सहपाठियों को दिया सफलता का श्रेय……*

Chhattisgarh2 years ago

*watch video ब्रेकिंग:- युद्धवीर सिंह जूदेव का पार्थिव शरीर एयर एम्बुलेंस विशेष विमान से जशपुर के आगडीह पहुंचा, पार्थिव शरीर आते ही युवा रो पड़े और लगाए जयकारे, आगडीह से विजय विहार के लिए रवाना, दिग्गज भाजपा नेताओं के साथ युवाओं ने इस जज्बे के साथ दी सलामी और बाइक में जयकारे लगाते हुए उसी अंदाज में की अगुआई जब संसदीय सचिव बनकर आये थे जशपुर…….*

Advertisement