Connect with us


Jashpur

साहित्य:- लड़की होने का मतलब? जशपुर के कवि डॉ.सतीश देशपांडे की काव्य संग्रह का हुआ* *विमोचन,प्रदेश के प्रसिद्व कवियों की काव्यपाठ से मंत्रमुग्ध हुये श्रोता*

Published

on

1666011389543

जशपुरनगर। राजधानी रायपुर के वृंदावन हॉल में ‘त्रिविधा’ के तत्वावधान में आयोजित एक समारोह में जशपुर मूल के कवि डा सतीश देशपांडे निर्विकल्प की काव्य रचना लड़की होने मतलब का विमोचन किया गया। जशपुर के कवि सतीश देशपांडे के काव्य संग्रह ‘लड़की होने का मतलब’ का विमोचन समारोह संपन्न हुआ। अपने संबोधन में निर्विकल्प डा देशपांडे ने साहित्यकारों, कलाकारों एवं आमजन से अपील किया कि कुछ समय के लिए असहमति के बिंदु दरकिनार रख, जिन बिंदुओं पर सहमति बनी है, उस पर मिलकर काम करने के लिए आगे आएं। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि माणिक विश्वकर्मा नवरंग, अध्यक्ष डॉक्टर चितरंजन कर, विशिष्ट अतिथि संजीव बख्शी तथा विवेक सक्सेना ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। वक्ताओ ने रचनाकार डा देशपांडे को रोचक, विविधतापूर्ण काव्य संग्रह ‘लड़की होने का मतलब’ को असाधारण कृति बताते हुए,उन्हें बधाई दी।

Advertisement

Ad

ad

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Chhattisgarh2 years ago

*बिग ब्रेकिंग :- युद्धवीर सिंह जूदेव “छोटू बाबा”,का निधन, छत्तीसगढ़ ने फिर खोया एक बाहुबली, दबंग, बेबाक बोलने वाला नेतृत्व, बेंगलुरु में चल रहा था इलाज, समर्थकों को बड़ा सदमा, कम उम्र में कई बड़ी जिम्मेदारियां के निर्वहन के बाद दुखद अंत से राजनीतिक गलियारे में पसरा मातम, जिला पंचायत सदस्य से विधायक, संसदीय सचिव और बहुजन हिन्दू परिषद के अध्यक्ष के बाद दुनिया को कह दिया अलविदा..*

Chhattisgarh2 years ago

*जशपुर जिले के एक छोटे से गांव में रहने वाले शिक्षक के बेटे ने भरी ऊंची उड़ान, CGPSC सिविल सेवा परीक्षा में 24 वां रैंक प्राप्त कर किया जिले को गौरवन्वित, डीएसपी पद पर हुए दोकड़ा के दीपक भगत, गुरुजनों एंव सहपाठियों को दिया सफलता का श्रेय……*

Chhattisgarh2 years ago

*watch video ब्रेकिंग:- युद्धवीर सिंह जूदेव का पार्थिव शरीर एयर एम्बुलेंस विशेष विमान से जशपुर के आगडीह पहुंचा, पार्थिव शरीर आते ही युवा रो पड़े और लगाए जयकारे, आगडीह से विजय विहार के लिए रवाना, दिग्गज भाजपा नेताओं के साथ युवाओं ने इस जज्बे के साथ दी सलामी और बाइक में जयकारे लगाते हुए उसी अंदाज में की अगुआई जब संसदीय सचिव बनकर आये थे जशपुर…….*

Advertisement