Connect with us

ad

Jashpur

*धर्मनगरी कोतबा में सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का हुआ समापन:हवन यज्ञ में पूर्णाहुति के साथ श्रीमद् भागवत महापुराण को नगर के हर घर घर मे भ्रमण कर किया गया विश्राम, भक्तों ने यज्ञ में दी आहुति*

Published

on

IMG 20230201 WA0145

 

कोतबा:- धर्मनगरी कोतबा में श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के अंतिम दिन श्रीमद् भागवत का रसपान करने के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। वृन्दावन से पधारी कथा वाचिका किशोरी वेदांगनी पाण्डेय ने भागवत कथा के अंतिम दिन कई प्रसंगों का विस्तार से वर्णन किया। इसमें ऊषा चरित्र, नृग चरित्र, वासुदेव नारद संवाद, सुदामा चरित्र प्रसंग, परीक्षित मोक्ष की कथा का बड़े ही रोचक अंदाज में वर्णन किया।भक्तमाल चरित्र में भक्त प्रहलाद व भक्त ध्रुव का प्रसंग सुनाते हुए निश्चल व निर्मल भक्ति करने का आह्वान किया।

IMG 20230201 WA0149
कथा के दौरान पूज्य किशोरी जी ने श्रोताओं को भागवत को अपने जीवन में उतारने की अपील की। भक्त की साधना से खुश होकर भगवान रीझ जाते हैं। उन्होने कहा कि कलयुग केवल नाम अधारा सुमिर सुमिर नर उतरहि पारा। कलियुग में जीवन के सभी पापों से मुक्ति का एक मात्र आधार भगवान की भक्ति ही है। भगवान का नाम स्मरण करने से ही भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। भगवान नाम में भारी शक्ति है। साथ ही सुदामा चरित्र के माध्यम से श्रोताओं को श्रीकृष्ण और सुदामा की मित्रता की मिसाल पेश की। समाज को समानता का संदेश दिया। इस कड़ी में पूज्य किशोरी जी ने बताया श्रीमद् भागवत कथा का सात दिनों तक श्रवण करने से जीव का उद्धार हो जाता है, वहीं इस कथा को कराने वाले भी पुण्य के भागी होते हैं। अंतिम दिन सुखदेव द्वारा राजा परीक्षित को सुनाई गई श्रीमद् भागवत भागवत कथा का पूर्णता प्रदान करते हुए विभिन्न प्रसंगों का वर्णन किया। उन्होंने सात दिन की कथा का सारांश बताते हुए कहा कि जीवन कई योनियों के बाद मिलता है और इसे कैसे जीना चाहिए के बारे में भी उपस्थित भक्तों को समझाया। सुदामा चरित्र को विस्तार से सुनाते हुए श्रीकृष्ण सुदामा की निश्छल मित्रता का वर्णन करते हुए बताया कि कैसे बिना याचना के कृष्ण ने गरीब सुदामा की स्थिति को सुधारा। उन्होंने व्रत उपासना पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कोई ईश्वर किसी से भूखे पेट रहकर भक्ति करने को नहीं कहते हैं। मन पर नियंत्रण और नाम जाप ही इस जगत में पार लगाने के लिए काफी है। उन्होंने गो सेवा कार्य करने पर जोर दिया। सुदामा की मनमोहक झांकियो का चित्रण किया गया जिसे देखकर हर कोई भाव विभोर हो उठा। अंत में कृष्ण के दिव्य लोक पहुंचने का वर्णन किया। महाआरती के बाद महाभोग भण्डारे का वितरण किया गया। इससे पूर्व वेद मंत्रोच्चारण के मध्य हवन यज्ञ का आयोजन किया गया। देश विदेश से आए भक्तों द्वारा भागवत कथा के समापन पर हवन यज्ञ में पूर्णाहुति दी गई। इसी के साथ भागवत कथा का विश्राम हो गया।

IMG 20230201 WA0146

नगर के हर घर पहुंची श्रीमद्भागवत महापुराण नगरवासियों आरती की थाल ले कर किया स्वागत

31 जनवरी को सात सिन चली श्रीमद्भागवत कथा का विराम किया गया। जिसके बाद पूर्णाहुति 1 फरवरी दिन बुधवार को सुबह 8 से 11 तक हवन पूजन कर पूर्णाहुति की गई जिसमें सैकड़ों भक्तों ने यज्ञ में आहुति डाली। जिसके बाद नाम जाप कीर्तन यात्रा निकाल पूरे नगर के हर घर मे श्रीमद्भागवत महापुरुष को लेकर हर घर घर भ्रमण किए में जिसमे संत भक्तो ने भजन गायन करते हुए पारम्परिक तरीके से कथा स्थल से 11 बजे निकल कर झिंगरेल पारा कारगिल चौक बस स्टैंड होकर मुख्य मार्ग से अघरिया पारा से परशुराम चौक राम मन्दिर गोटियाखोल से पुनः शाम 5 बजे तक नगर भ्रमण कर कथा का विश्राम विधिविधान से सम्पन्न किया गया।

Advertisement

Ad

ad

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Chhattisgarh3 years ago

*बिग ब्रेकिंग :- युद्धवीर सिंह जूदेव “छोटू बाबा”,का निधन, छत्तीसगढ़ ने फिर खोया एक बाहुबली, दबंग, बेबाक बोलने वाला नेतृत्व, बेंगलुरु में चल रहा था इलाज, समर्थकों को बड़ा सदमा, कम उम्र में कई बड़ी जिम्मेदारियां के निर्वहन के बाद दुखद अंत से राजनीतिक गलियारे में पसरा मातम, जिला पंचायत सदस्य से विधायक, संसदीय सचिव और बहुजन हिन्दू परिषद के अध्यक्ष के बाद दुनिया को कह दिया अलविदा..*

Chhattisgarh3 years ago

*जशपुर जिले के एक छोटे से गांव में रहने वाले शिक्षक के बेटे ने भरी ऊंची उड़ान, CGPSC सिविल सेवा परीक्षा में 24 वां रैंक प्राप्त कर किया जिले को गौरवन्वित, डीएसपी पद पर हुए दोकड़ा के दीपक भगत, गुरुजनों एंव सहपाठियों को दिया सफलता का श्रेय……*

Chhattisgarh3 years ago

*watch video ब्रेकिंग:- युद्धवीर सिंह जूदेव का पार्थिव शरीर एयर एम्बुलेंस विशेष विमान से जशपुर के आगडीह पहुंचा, पार्थिव शरीर आते ही युवा रो पड़े और लगाए जयकारे, आगडीह से विजय विहार के लिए रवाना, दिग्गज भाजपा नेताओं के साथ युवाओं ने इस जज्बे के साथ दी सलामी और बाइक में जयकारे लगाते हुए उसी अंदाज में की अगुआई जब संसदीय सचिव बनकर आये थे जशपुर…….*

Advertisement